Motivational Story

बाज के दो बच्चे

बहुत समय पहले की बात है , एक राजा को उपहार में किसी ने बाज के दो बच्चे भेंट किये । वे बड़ी ही अच्छी नस्ल के थे , और राजा ने कभी इससे पहले इतने शानदार बाज नहीं देखे थे। राजा ने उनकी देखभाल के लिए एक अनुभवी आदमी को नियुक्त कर दिया। जब कुछ...

जीने की हर रोज कोशिश

एक तुक्ष प्राणी। जीने की हर रोज कोशिश । कर्मो से ही पहचान होती है इंसानों की.. अच्छे कपड़े तो बेजान पुतलो को भी पहनाये जाते है..। *आदतें औकात का पता बता देती हैं...* एक राजा के दरबार मे एक अजनबी इंसान नौकरी मांगने के लिए आया। उससे उसकी क़ाबलियत पूछी गई, तो वो बोला, "मैं आदमी हो चाहे जानवर, शक्ल...

पिता और बेटे कि कहानी

"शर्मा..बहुत बड़ी नादानी कर रहे हो...रिटायर हो चुके हो..यहीं रहो ये सब कुछ बेचके..कहाँ अपने लड़के के पास जा रहे हो..." गुप्ता जी ने अपने चालीस साल पुराने दोस्त शर्मा के इलाहाबाद से दिल्ली शिफ्ट होने के फैसले पे ऐतराज जताते हुए कहा शर्मा जी मुस्कुराए और बोले "भाई गुप्ता..बच्चों के बगैर दिल नहीं लगता...जिंदगी...

कब तक दांव पर लगता रहेगा नारी अस्तित्व

महिलाओं पर बढ़ती जा रही अत्याचार, हिंसक वार और स्टॉकिंग की घटनाएं समाज के संवेदनाशून्य और क्रूर होते जाने की स्थिति को ही दर्शाता है। लगातार समाज के बीमार मन एवं बीमार समाज की स्थितियां नारी के सम्मुख चुनौती खड़ी कर रही हैं। नारी का यह बलिदान क्या केवल एक जीवन का अंत भर...

एक माँ की पुकार

गले लगाकर छोटी को मैं जाने कब से सोच रही हूं क्या तुझको महफूज रखूंगी जब मैं खुद महफूज नहीं हूं मांस नोचती इस दुनिया में क्यूं भेजा था हे विधाता कैसे मैं छोटीे को बचाऊं जब मैं खुद ही डर रही हूं तू तो कहा था दुनिया में औरत पूजी जाती है फिर चैराहों पे क्यू सीता सावित्री...

लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं

  लड़कियां बड़ी लड़ाका होती हैं... मैंने देखा एक लड़की महिला सीट पर बैठे पुरुष को उठाने के लिए लड़ रही थी तो दूसरी लड़की महिला - कतार में खड़े पुरुष को हटाने के लिए लड़ रही थी मैंने दिमाग दौड़ाया तो हर ओर लड़की को लड़ते हुए पाया जब लड़की घर से निकलती है तो उसे लड़ना पड़ता...

सफलता का रहस्य

एक नौजवान ने एक बार सुकरात से सफलता का रहस्य पूछा | सुकरात ने उस नौजवान को अगली सुबह नदी के किनारे मिलने को कहा | अगले दिन वे दोनों मिले | सुकरात ने उस नौजवान से कहा – “वह उसके साथ नदी की तरफ चले |”   आगे बढते–बढते जब पानी उनकी गर्दन तक आ...

स्त्री

मै स्त्री हूँ मै नारी हूँ मै कली हूँ मै फुलवारी हूँ.. मै दर्शन हूँ मै दर्पण हूँ .... मै नाद हूँ मै ही गर्जन हूँ.. मै बेटी हूँ मै माता हूँ.. मै बलिदानों की गाथा हूँ.. मै श्री मद् भगवत गीता हूँ .. मै द्रोपदी हूँ मै सीता हूँ ... पुरूषो की इस दुनियॉ ने, मुझे कैसी नियति दिखलाई .. कभी जुये में...

अपने सपने के चक्कर मे बच्चो के सपने मत तोड़िए

पिता बेटे को डॉक्टर बनाना चाहता था। बेटा इतना मेधावी नहीं था कि PMT क्लियर कर लेता। इसलिए दलालों से MBBS की सीट खरीदने का जुगाड़ किया गया। जमीन, जायदाद जेवर गिरवी रख के 35 लाख रूपये दलालों को दिए, लेकिन वहाँ धोखा हो गया। फिर किसी तरह विदेश में लड़के का एडमीशन कराया गया,...

माँ को बुलाओ!

  "सब कुछ सही चल ही रहा था कि एक दिन अग्रेजी के अध्यापक बहुत गुस्सा हो गए, क्योंकि बार-बार सिखाने के बाद भी उसने सही उत्तर नहीं दिए।" माँ के गुज़र जाने के बाद पाखी को नाना नानी पाल रहे थे। पारिवारिक अनबन के कारण पिता से कभी मुलाकात नही हुई। उसे ये सिखा दिया...