शाम के समय नहीं करना चाहिए टैबलेट का इस्तेमाल, नहीं तो इस चीज में परेशानी हो सकती है ।

शाम के समय टैबलेट का इस्तेमाल करने से आपके सोने के समय में देरी हो सकती है क्योंकि इनसे निकलने वाला प्रकाश नींद को नियंत्रण करने वाले हार्मोन में हस्तक्षेप कर सकता है और सुबह जगने में भी असक्षम बना सकता है. एक अध्ययन से यह जानकारी मिली है.

इस अध्ययन में प्रकाश फैलाने वाले टैबलेट का इस्तेमाल पांच दिन तक लगातार करने वाले नौ स्वस्थ्य युवकों की तुलना उनसे की गई जो शाम में अखबार , किताब या मैगजीन पढ़ते हैं. 

 

इस अध्ययन से मिली जानकारी इस बात पर प्रकाश डालती है कि प्रकाश उत्सर्जन करनेवाले डिवाइस शरीर पर असर डालते हैं. ” 

क्या मंगल ग्रह पर एलियन हैं ? तलाशने के लिए नासा ने बनाई प्रयोगशाला

 

loading...

 

वैज्ञानिकों ने मंगल ग्रह के रोवर के लिए एक छोटी प्रयोगशाला बनाई है, जो इस लाल ग्रह की भूमि की खुदाई करके यहां पहले या मौजूदा समय के जीवन के चिह्न तलाशने का काम करेगी.

 इस छोटी रसायन प्रयोगशाला को मार्स ऑर्गेनिक मोलिक्यूल एनालाइजर (एमओएमए) कहा जा रहा है और यह एक्सोमार्स रोवर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है.

यह यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी और रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉस्कोजमोस का संयुक्त मिशन है और अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नासा भी इस अभियान में अहम योगदान दे रही है.

यह जुलाई, 2020 में मार्स की तरफ प्रक्षेपित की जाएगी. नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के प्रोजेक्ट वैज्ञानिक विल ब्रिनकरहोफ ने बताया, “एक्सोमार्स रोवर की दो मीटर गहरी खुदाई करने वाली ड्रिल एमओएमए को काफी प्राचीन समय से यहां मौजूद हो सकने वाले जटिल कार्बनिक यौगिकों की जानकारी देगी.

 इससे यह पता लगेगा कि मंगल ग्रह पर जीवन की उत्पत्ति हुई थी या नहीं.” 

मंगल ग्रह का वातावरण मौजूदा समय में ऐसा नहीं है कि यहां जीवन पनपे लेकिन काफी प्राचीन समय में मंगल के मौसम में तरल जल होने के सबूत मिले हैं. 

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY