मोबाइल के कारण ज़्यादातर लोग परिवार को समय नहीं दे पा रहे हैं, तो जानिए वो लोग क्या चाहते हैं ताकि परिवार को समय दिया जा सके

भारत में लगभग आधी जनता अपने दोस्तों और परिवार को समय देने के लिए मोबाइल को दिए जाने वाले समय में कटौती करना चाहते हैं.

मनुष्य के  जीवन में प्रौद्योगिकी का अभिन्न योगदान है , इसके बावजूद लगभग आधी जनता अपने दोस्तों और परिवार को समय देने के लिए मोबाइल को दिए जाने वाले समय में कटौती करना चाहते हैं.

अमेरिकन एक्सप्रेस और शोध कंपनी मॉर्निग कंसल्ट द्वारा किए गए सर्वे के मुताबिक, लगभग एक-तिहाई भागीदारों ने भारत में पिछले दो वर्षो में काम के दौरान मोबाइल को ज्यादा वक्त दिया, जिनमें 38 फीसदी ने इसके लिए प्रौद्योगिकी को जिम्मेदार माना.

दुनिया भर के लोगों में निजी और पेशेवर जिंदगी के साथ-साथ वास्तविक और आभासी संवाद बढ़ रहा है. अमेरिकन एक्सप्रेस बैंकिंग के भारत के मुख्य कार्यकारी ने कहा, ” सर्वेक्षण ‘लिव लाइफ’ कामकाजी जीवन संतुलन से कामकाजी जीवन एकीकरण में रूपांतरण को दर्शाता है.

loading...

” मॉर्निग कंसल्ट ने शोध के लिए अमेरिकन एक्सप्रेस की ओर से आठ बाजारों -भारत, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, हांगकांग, जापान, मेक्सिको, ब्रिटेन और अमेरिका- में शोध किए. कंपनी ने भारत में 7-14 मार्च, 2018 को ऑनलाइन सर्वेक्षण के द्वारा लगभग 2,000 लोगों से सवाल जवाब किए. शोध में यह पता चला कि  दैनिक जीवन में मोबाइल रहित समय बढ़ाने के पक्ष में अधिक आयु वालों से ज्यादा कम आयु के लोग थे.

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY