पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? जानिए

मेनोपॉज़ होने पर पीरियड्स पहले की तरह रेग्युलर नहीं रहते हैं. कभी ब्लीडिंग ज़्यादा होती है, तो कभी कम और कई बार सिर्फ  धब्बे  देखे जा सकते है. कई बार पीरियड्स ज़्यादा लंबे समय तक  रहते हैं, तो कभी कम दिनों में ही ख़त्म हो जाते हैं.

यदि आपके पीरियड्स नहीं आ रहे हैं, तो सबसे पहले प्रेग्नेंसी टेस्ट करें. अगर आप प्रेग्नेंट नहीं हैं, तो हो सकता है कि यह मेनोपॉज़ हों. अगर लगातार पूरे साल तक पीरियड्स नहीं आते हैं और उसके बाद भी धब्बे  ही दिखाई देते  है, तो डॉक्टर से सलाह लीजिये क्योंकि ये कैंसर जैसी गंभीर समस्या भी हो सकती है.

मेनोपॉज़ को आप खुद  पहचान सकती हैं. मेनोपॉज़ के लक्षण हैं  वेजाइनल ड्रायनेस, नींद की कमी, ज़्यादा पसीना आना आदि. इन सभी लक्षणों के कारण आप चिंता या अवसाद महसूस कर सकती हैं. मेनोपॉज़ है या नहीं ये जानने के लिए गायनाकोलॉजिस्ट से संपर्क करना चाहिए .

एक ब्लड टेस्ट के द्वारा आसानी से इसका पता लगाया जा सकता है.

loading...

इसके अतिरिक्त  आप पैप स्मीयर यानी सरवाइकल कैंसर स्क्रीनिंग टेस्ट भी करवा सकती हैं. स्ट्रेस, कुपोषण, थाइरॉइड प्रॉब्लम, कोई बीमारी, कंट्रासेप्टिव पिल्स, ईटिंग डिसऑर्डर, अर्ली मेनोपॉज़, ब्रेस्ट फीडिंग, मोटापा, पीसीओडी और अचानक से वज़न कम  होने पर भी पीरियड्स देरी से आते हैं. 

 

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY