हींग एक शक्तिशाली महक वाला मसाला है जो खाने को स्वादिष्ट और खुशबूदार बनाता है। इसका ज्यादार इस्तेमाल भारतीय और फारसी खाने में होता है। इसमें प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, नियासिन, कैरोटीन और राइबोफ्लेविन पाया जाता है।

हींग को रसोई के आलावा आयुर्वेदिक औषधि में भी काफी इस्तेमाल किया जाता है। इसके कई चिकित्सकीय और रोगनाशक को देखते हुए इसे ‘देवतायों का खाद्य पदार्थ’ भी माना जाता है।

हींग के स्वास्थ्य लाभ

हींग  पेट की समस्यायों को दूर करती है

पेट की कई समस्यायों में हींग काफी फायदेमंद होती है। यह पेट की कई समस्यायों जैसे बदहजमी , पेट की ख़राबी, पेट की गैस, पेट के कीड़े, पेट फूलना से बचाती हैं। मे भी इसको फायदेमंद माना जाता है।

loading...

अपने खाने की सब्जी में हींग का प्रयोग नियमित करें।

इसके इस्तेमाल का एक और तरीका है – रोज खाने के बाद आधा कप पानी में थोड़ी सी हींग डालकर पियें।

सांस की बीमारियों का इलाज करती है

यह सांस की बिमारियों जैसे दमा , सूखी खांसी, काली खांसी और सर्दी जुकाम को ठीक करते हैं। छाती में रक्त संचय और बलगम के लिए फायदेमंद है।

सर्दी जुकाम या खांसी होने पर हींग को पानी के साथ पीसकर पेस्ट तैयार करें और इसे अपनी छाती पर मलें।

डेढ़  चम्मच हींग और सूखे अदरक को दो चम्मच शहद में मिलाएं। अब इसे दिन में तीन बार उपयोग कीजिये ।  यह उपचार सूखी खांसी, काली खांसी, को दूर करता है।

  1. मासिक धर्म की परेशानियों को दूर करती है

हींग महिलायों के लिए एक वरदान की तरह है क्योंकि यह मासिक धर्म के दर्द  अनियमित मासिक धर्म  और अत्यधिक खून के स्त्राव की समस्या को दूर करती है। यह खून के संचार को ठीक करती है।

एक कप छाछ में आधा चम्मच मेथी का पाउडर, एक चुटकी हींग और स्वादानुसार नमक मिला लें।

एक महीने तक लगातार इसे दिन में तीन बार सेवन करें।

  1. सिरदर्द में फायदेमंद

माइग्रेन, सर्दी जुकाम आदि किसी भी समस्या के कारण हुए सिरदर्द में हींग काफी फायदेमंद होती है।

डेढ़ कप पानी में थोड़ी सी हींग डाल कर गरम करें। इसे कम से कम 15 मिनट के लिए उबलने दें और फिर चाय की तरह सेवन करें। हलके तनाव के कारण हुए सिरदर्द में इसे दिन में तीन बार सेवन करें।

एक-एक चम्मच हींग, सूखे अदरक और कपूर को दो चम्मच मिर्च पाउडर में मिला लें। अब इसमें दूध डालकर पेस्ट बना लें। tension और migraine को कम करने के लिए इस पेस्ट को अपने माथे पर लगायें।

  1. दांतों के दर्द को कम करता है

हींग दांतों के दर्द को कम करती है और इन्फेक्शन से लड़ती है। यह मसूड़ों से खून बहना और दंत क्षय को भी ठीक करती है।

दांतों के दर्द में तुरंत राहत पाने के लिए हींग को दर्द वाले स्थान में दबाकर रख लें।

आप हींग से कुल्ला भी कर सकते हैं। एक कप पानी में थोड़ी सी हींग और कुछ लौंग डालकर उबालें। जब यह थोड़ा ठंडा हो जाये तो इससे कुल्ला करें।

  1. कान के दर्द को कम करे

हिंग कान के दर्द को कम करती हैं।

एक छोटी सी कटोरी में नारियल के तेल को गर्म करें।

इसमें थोड़ी सी हींग डाल दें और इसे घुलने तक इंतिजार करें।

जब यह हल्का गर्म रह जाए तो इसे ear drop की तरह कान में डालें।

  1. Colic Pain को ठीक करती है

 

Colic pain छोटे बच्चों में अचानक से होने वाला दर्द होता है जिसका मुख्या कारण होता है उनकी कमजोर मांसपेशियां। हींग colic pain ठीक हो जाता है।

 

बच्चों में इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने doctor से सलाह जरुर लें क्योंकि उनके दर्द के कई और कारण भी हो सकते हैं।

हींग को गर्म पानी में मिलाकर पतला पेस्ट बना लें।

 

अब इस पेस्ट को बच्चों की नाभि के आसपास लगायें (ध्यान रखें इसे नाभि में न लगायें)

जरुरत पड़ने पर इसे बार-बार करें।

  1. कैंसर को रोकती है

हींग एक शक्तिशाली होती है, यह शरीर को से बचाती है। कई शोधों से यह पता चला है कि इसमें मौजूद घातक कोशिकाओं के विकास को रोककर हमें कैंसर से बचाती हैं।

 

हींग में ऐसे कई होते हैं जो कैंसर को रोकते हैं, उनमें से सबसे महत्वपूर्ण घटक हैं

  1. नपुंसकता का इलाज करती है

हींग पुरुषों में होने वाली नपुंसकता को भी ठीक करती है।

एक चौथाई हींग को घी में भून लें।

 

 

अब इसमें आधा चम्मच ताजा बरगद के पेड़ का दूध और थोड़ा सा शहद मिला लें।

इसे लगातार 40 दिनों तक रोज सुबह सेवन करें।

  1. मधुमक्खी के काटने पर राहत देती है

मधुमक्खी या ततैय्या के काटने पर हींग दर्द को कम करती है और जहर को फैलने से रोकती है। इसके पाउडर को पानी में मिलाकर पेस्ट तैयार करें।

अब इसे डंक से काटे हुए स्थान पर लगायें।

अब इसे सूखने तक इंतिजार करें और फिर धो लें।

जरुरत पड़ने पर इसे दोबारा करें।

जो लोग उच्च रक्तचाप की दवाइयां लेते हैं और जिन लोगों को blood clotting की परेशानी  हैं वह इसे इस्तेमाल न करें। गर्भवती महिलाएं भी हींग का उपयोग न करें।

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY