दूसरा बच्चा-नंदिनी दीपक उपाध्याय

0
201

आज शाम को जैसे ही मैं पार्क में गई शाम की वॉक के लिये । तो मैंने देखा कि सभी औरतें किसी बात पर खुसर-पुसर कर रही है । दो-दो तीन-तीन औरतों का झुंड बना हुआ बातें हो रही हैं । मैंने देखा उनकी बातें मिसेस वर्मा के बारे में थी । मैं भी एक झुंड का हिस्सा बन गई मैंने बातें सुनी के मिसेज वर्मा प्रेग्नेंट थी ।
बहस का विषय यह था की उन्हें इस उम्र में क्या सूझी । उनका बड़ा बेटा 19 ईयर का था । सभी लोगों का कहना था की वह गलत कर रही है। एक ने कहां की यह उन्हें शर्म आना चाहिए । दूसरी बोली की यह कोई उम्र है उनकी । वह गलत कर रही है । मैं उनकी बातें सुनती रही और वापस घर आ गई ।
मैं सोचती रही की आजकल कैसा समय आ गया है । व्यक्ति अपनी मर्जी से अपना परिवार भी नही बड़ा सकता । उसे इसके लिए भी समाज से इजाजत लेनी पड़ेगी । नही तो इतनी सारी बातें सुननी पड़ेंगी । मैंने सोचा मिसेस वर्मा से मिलना चाहिए । मैं एक दिन दोपहर मे उनके घर गयी । वह घर में अकेली ही थी बेटा कोचिंग गया था
,और पति ऑफिस गए थे मैंने सोचा अच्छा समय है बात करने के लिए । मैंने बात करनी शुरू की ” कहाँ बधाई हो आपको “। उन्होंने मुझे धन्यवाद कहा ।
और बड़े ही सहज तरीके से कहा कि मैं जानती हूं आजकल मेरे बारे में बहुत बातें हो रही है इस उम्र में प्रेग्नेंट, ये सारी बातें, मगर यह कोई गुनाह नहीं है । उन्होंने शुरू से बताना चालू किया
मैं अपने माता-पिता की इकलौती संतान थी । मुझे अपने भाई बहन की बहुत कमी लगती थी सभी लोगों को मैं भाई बहन के साथ खेलते हुए देखती तो मेरा मन करता कि मेरा भी कोई भाई बहन होता तो कितना अच्छा होता । जब मेरी शादी हुई तो मैंने सोचा था , की मैं एक, नहीं दो, तीन बच्चे करूंगी मगर जब बेटा हुआ,
उसके बाद कॉन्प्लिकेशन आ गए । उस वजह से मुझे दूसरा बच्चा नही हुआ । हमने बहुत इलाज करवाया मगर कुछ फायदा नहीं हुआ । मैं भी किस्मत में नही है, यह मान कर बैठ गई । और इस बारे में सोचना भी छोड़ दिया था । मगर अब 4 महीने पहले पता चला कि मैं प्रेग्नेंट हूं । मुझे बहुत खुशी हुई ।
मगर मुझे भी बहुत सोचना पड़ा मुझे बच्चा रखना चाहिए या नहीं । क्योंकि बेटा 19 साल का है लोग क्या कहेंगे। घर वाले क्या कहेंगे । मगर इन सब की वजह से मैं अपने बच्चे को ,जो मेरा सपना था अबोर्ड नहीं कर सकती ।
इसलिए हम दोनो ने निर्णय लिया कि हम इस पैदा करेंगे । चाहे कोई कुछ भी कहे बस यही बात है । उनकी बातें सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा । सब लोगों पर गुस्सा भी आया जो लोग उनके बारे में ऐसी ऊलजलूल बातें कर रहे थे ।
नंदिनी दीपक उपाध्याय
 

Loading...

LEAVE A REPLY