डाक्टर की चतुराई

0
116

एक स्त्री एक दिन एक स्त्रीरोग विशेषज्ञ के पास के गई और बोली,
” डाक्टर मैँ एक गंभीर समस्या मेँ हुँ और मेँ आपकीमदद चाहती हुँ । मैं गर्भवती हूँ, आप किसी को बताइयेगा नही मैने एक जान पहचान के सोनोग्राफी लैब से यह जान लिया है कि मेरे गर्भ में एक बच्ची है । मै पहले से एकबेटी की माँ हूँ और मैं किसी भी दशा मे दो बेटियाँ नहीं चाहती ।”
डाक्टर ने कहा ,”ठीक है, तो मेँ आपकी क्या सहायता कर सकता हु ?”
तो वो स्त्री बोली,” मैँ यह चाहती हू कि इस गर्भ को गिराने मेँ मेरी मदद करें ।”
डाक्टर अनुभवी और समझदार था।
थोडा सोचा और फिर बोला,”मुझे लगता है कि मेरे पास एक और सरल रास्ता है जो आपकी मुश्किल को हल कर देगा।” वो स्त्री बहुत खुश हुई..
डाक्टर आगे बोला, ” हम एक काम करते है आप दो बेटियां नही चाहती ना ?? ?
तो पहली बेटी को मार देते है जिससे आप इस अजन्मी बच्ची को जन्मदे सके और
आपकी समस्या का हल भी हो जाएगा. वैसे भी हमको एक बच्ची को मारना है तो पहले वाली को ही मार देते है ना.?” तो वो स्त्री तुरंत बोली”ना ना डाक्टर.”.!!!
हत्या करनागुनाह है पाप है और वैसे भी मैं अपनी बेटी को बहुत चाहती हूँ । उसको खरोंच भी आती है तो दर्द का अहसास मुझे होता है डाक्टर तुरंत बोला, “पहले
कि हत्या करो या अभी जो जन्मा नही उसकी हत्या करो दोनो गुनाह
है पाप हैं ।”
यह बात उस स्त्री को समझ आ गई । वह स्वयं की सोच पर लज्जित हुई और पश्चाताप करते हुए घर चली गई । क्या आपको समझ मेँ आयी

Loading...

LEAVE A REPLY