चिरौंजी या चारोली बल-वीर्यवर्धक, वात-पित्तनाशक, शीतल, हृदय के लिए हितकर एवं त्वचा-विकारों में लाभदायी है । यह मधुर, पौष्टिक तथा स्वादिष्ट होने से व्यंजनों, मिठाइयों, ठंडाई आदि में प्रयोग की जाती है ।

चिरौंजी के लाभ व प्रयोग

* चिरौंजी के सेवन से शारीरिक शक्ति बढ़ती है, थकावट दूर होती  है  तथा मस्तिष्क को ऊर्जा मिलती है ।

* यह वीर्य को गाढ़ा बनाती है । शुक्राणुओं की कमी व नपुंसकता में इसे दूध के साथ लें ।

* यह हृदय को शक्ति देती है तथा दिल की घबराहट में अत्यंत लाभदायी है ।

loading...

* चिरौंजी शीतपित्त में अति लाभप्रद है । शीतपित्त के चकत्ते होने पर दिन में एक बार 15-20 चिरौंजी के दानों को खूब चबा-चबाकर खायें तथा दूध में पीस के चकत्तों पर इसका लेप करें ।

* गले, छाती व पेशाब की जलन में चिरौंजी का सेवन लाभदायी है ।

* मुँह एवं जीभ के छाले होने पर इसके 3-4 दाने खूब देर तक चबायें तथा इसका रस मुँह में इधर-उधर घुमाते रहें, फिर निगल जायें । इस प्रकार दिन में 3-4 बार करें ।

* इसे दूध के साथ पेस्ट बना के लगाने से त्वचा चमकदार बनती है, झाँइयाँ दूर होती हैं ।

* सिरदर्द (neuralgic headache) व चक्कर आने में पिसी चिरौंजी दूध में उबालकर लें ।

सावधानीः पचने में भारी एवं कब्जकारक होने से भूख की कमी व कब्ज के रोगियों को इसका सेवन अल्प मात्रा में करना चाहिए ।

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY