एक शेर की गुफा थी| खूब गहरी, खूब अँधेरी| उसी में बिल बनाकर एक छोटी चुहिया भी रहती थी| शेर जो शिकार लाता, उसकी बची हड्डियों में लगा मांस चुहिया के लिये बहुत था| शेर जब जंगल में चला जाता, तब वह बिल से निकलती और हड्डियों में लगे मांस को कुतरकर पेट भर लेती| खूब मोटी हो गयी थी वह|

एक दिन शेर दोपहर में सोया था| चुहिया को भूख लगी| वह बिल से बाहर निकली और उसने अपना पेट भर लिया| पास रहते-रहते उसका भय दूर हो गया था| पेट भर जाने पर वह शेर के शरीर पर चढ़ गयी| शेर का कोमल चिकना शरीर उसे बहुत पसंद आया| उसे बड़ा आनन्द आया| वह उसके पैर, पीठ, गर्दन और मुख पर इधर-से-उधर दौड़ने लगी|

इस धमाचौकड़ी में शेर की नींद खुल गयी| उसने पंजा उठाकर चुहिया को पकड़ लिया और डांटा – ‘क्यों री, मेरे शरीर पर यह क्या ऊधम मचा रखा है तूने?’

चुहिया की सिट्टी-पिट्टी गम हो गयी| अब मरी तब मरी| किसी प्रकार काँपते-काँपते बोली – ‘महाराज! मुझसे सचमुच बड़ा भारी अपराध हो गया! पर आप समर्थ हैं, यदि मुझे क्षमा करके प्राणदान दे दें तो मैं शक्ति भर आपकी सेवा करुँगी|’

शेर हँस पड़ा| उसने चुहिया को छोड़ते हुए कहा – ‘जा, तू मेरी सेवा तो क्या करेगी और जंगल के राजा को नन्हीं चुहिया की सेवा से करना भी क्या है, पर तुझे क्षमा करता हूँ|’

loading...

संयोग की बात – किसी अजायब घर को जीवित शेर की आवश्यकता थी| जंगल में जाल लगाया गया| शेर उसमें फँस गया| वह दहाड़ने और चिल्लाने लगा|

शेर बहुत शक्तिशाली था| वह बार-बार पंजे मारता था, दाँतों से जाल को काटना चाहता था और उछलकर भागना चाहता था| लेकिन जाल ऐसा-वैसा नहीं था| शेर को फँसाने के लिये भला कोई कमजोर जाल कैसे बिछा सकता है| शेर जितना उछलता और पंजे मारता था, जाल के फंदे उतने ही कसते जाते थे| शेर के पंजे के नखों और मुँह से भी रक्त आने लगा था, किंतु वह बराबर जाल को नोचता ही जाता था| इससे हुआ यह कि जाल बहुत अधिक कड़ा हो गया| उसके बन्धन इतने कस गये कि शेर अब हिल भी नहीं सकता था|

 

जंगल का राजा शेर जाल में पड़ा-पड़ा दहाड़ रहा था| वह कभी किसी से डरा नहीं था, कभी किसी ने उसे बाँधा नहीं था, उसे बन्धन में पड़ना बहुत बुरा लग रहा था, किंतु अब वह कर भी क्या सकता था| वह दहाड़ रहा था और कुछ-कुछ डर भी रहा था कि कोई उसे पकड़ने आवेगा| उसे क्रोध तो खूब ही आ रहा था|

शेर की आवाज चुहिया ने पहचानी| वह दौड़ी आयी और बोलो – ‘महाराज! आप चुप रहें| दहाड़ने से दूर गये शिकारी दौड़ आयेंगे और मुझे भी डर लगेगा| मैं काम नहीं कर सकूँगी| मैं जाल कुतर देती हूँ|’

शेर चुप हो गया| बड़ा मजबूत जाल था| चुहिया के दाँतों से रक्त निकलने लगा, पर उसने जाल तो काट ही दिया| शेर कुछ बोले, इससे पहले चुहिया ने कहा – ‘आप जल्दी भागिये! मेरा क्या यह कम सौभाग्य है कि मैं अपने जीवनदाता एवं जंगल के महाराज की कुछ सेवा कर सकी|’ शेरने केवल इतना कहा –

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY