एक भक्त परिवार था। पूरा परिवार कान्हा जी का भक्त था। वो अपने कृष्णा से बहुत प्यार करता था।

उन्होंने अपने घर में ठाकुर जी को विराजमान किया हुआ था। परिवार का एक नियम था ; वो लोग कहीं भी बाहर जाते तो , अपने ठाकुर जी के सामने माथा टेकते थे,और जब वापिस आते तो भी माथा टेकते थे और अपने कृष्णा का शुक्रिया अदा करते थे।

ये काम घर का प्रत्येक व्यक्ति करता था।

एक बार घर का छोटा बेटा जो तेरह साल का था, बिना माथा टेके ही बाहर चला गया, कुछ व्यस्तता के कारण भूल गया। वहां उसने देखा, कि कुछ लड़कों में लड़ाई हो रही है।वो भी वहां खड़ा हो गया।

लड़के आपस में लड़ रहे थे।उन लोगों ने उसे (छोटे बेटे को) दूसरी पार्टी का समझकर पकड़ लिया। एक लड़के ने कैंची निकालकर उसके गले पर वार करने शुरू कर दिये।उसने कई वार किये।

loading...

तब तक उस परिवार का बड़ा बेटा आ गया,और उसे देखकर बाकी के सब लड़के भाग गये।छोटा बेटा बेहोश हो गया था। बड़ा बेटा उसे घर ले आया। उसका खून बहता देखकर उसकी मां घबरा गई।

वह अपने घर के मंदिर में ठाकुर जी के चरणों मे बैठकर रोने लगी।तब तक घरवाले छोटे बेटे को हॉस्पिटल ले गये।

इधर उसकी मां रोते हुए लडू गोपाल से कह रही थी- आप तो भक्तों के अंग-संग रहते हो,फिर भी ये सब हो गया।

रोते-रोते उसकी आंख लग गई और उसने देखा, कृष्णा खड़े हैं , और उनके दोनों हाथों से खून निकल रहा है।

कृष्णा बोले- बेटी! आज अगर मैं वहां ना होता, तो तेरा बेटा मारा जाता। वह कैंची मैंने इसकी गर्दन तक नहीं पहुंचने दी। वह मेरे हाथों में लगती रही और तेरे बेटे को केवल मामूली सी ही चोट लगी है। वह केवल डर के कारण बेहोश हो गया है। होना कुछ और था लेकिन टल गया।

वह (मां) एकदम चौंक कर उठी और कृष्णा के चरणों मे लेट गई, और बोली- हे प्रभू! हमारे लिए आपने इतने कष्ट उठाये और भावविभोर हो रोने लगी और ठाकुर जी से क्षमा याचना की।

तभी उसका बेटा हॉस्पिटल से लौटकर आया।उसनें माँ को बताया- सब ठीक है। बस थोड़ी सी चोट है।

तभी छोटा बेटा और पिता जी भी घर आ गए। छोटे बेटे ने अपने माँ औऱ पिताजी को सब बात बताई, मुझे भगवान जी ने बचाया है।

कैंची तो उस लड़के ने लगातार मेरे गले पर मारी थी, लेकिन फिर भी चोट बहुत ही कम लगी।

तब उसकी मां ने परिवार को पूरी बात बताई। हमें भी अपने कृष्णा के ऊपर पूरा विश्वास करना चाहिए और हर वक्त उनका शुक्रिया अदा करते रहना चाहिए।

जय श्री कृष्णा🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

डिस्क्लेमर: इस पोस्ट में व्यक्त की गई राय लेखक के व्यक्तिगत विचार हैं। जरूरी नहीं कि वे विचार या राय www.socialsandesh.in के विचारों को प्रतिबिंबित करते हों .कोई भी चूक या त्रुटियां लेखक की हैं और social sandesh की उसके लिए कोई दायित्व या जिम्मेदारी नहीं है ।

सभी चित्र गूगल से लिया गया है

Loading Facebook Comments ...

LEAVE A REPLY