इस घरेलू दवाई से करे अनेकों प्रकार की छोटी मोटी बीमारियों का इलाज

0
43

आज एक ऐसी दवाई की बात करते है जो है तो घरेलू दवाई जिसे दिन में सिर्फ़ 4 चम्मच लेने से ही अनेकों प्रकार की छोटी मोटी बीमारियों के साथ साथ कैंसर जैसी प्राणलेवा बीमारी तक को खत्म करने की क्षमता रखती है।
दुनिया भर के अरबों लोग विभिन्न आकार प्रकार के छोटे बड़े रोगों के साथ साथ कैंसर जैसे रोग से पीड़ित हैं।
दुनिया के लोगों की आज के समय की यह सबसे दुखदायी शारीरिक स्वास्थ्य की स्थिति है।
लेकिन यह भी एक कडुआ सत्य है कि आधुनिक भ्रामक वैज्ञानिकता का चश्मा उतार कर पुनः अपनी प्राचीन स्वदेशी चिकित्सा की ओर अवलोकन किया जाए तो हम पाएंगें की इन सारी समस्याओं को एक साधारण से दिखने वाले एक छोटे से प्राकृतिक उपचार से ठीक किया जा सकता है।
घर में ही घरेलू चीजों से बनाई जाने वाली एक साधारण सी औषधि है जिस के इस्तेमाल से बहुत सी भिन्न भिन्न प्रकार की बीमारियो अथवा कैंसर जैसे जानलेवा बीमारी से भी बचा जा सकता है |
दुनिया की ऐसी बहुत सी बड़ी बड़ी लाइलाज बीमारियाँ है जिनका इलाज संभव नहीं है और इसकी वजह से लोग मर जाते हैं |
फिर वो चाहे एड्स हो या कैंसर हो या ट्यूमर हो |
ये बीमारियाँ शुरू में तो पकड में नहीं आती हैं और जब तक इनका पता चलता है तब तक ये हाथ से बाहर होती हैं |
कितनी ही मासूम जानों को हमने इन बीमारियों की वजह से खोते हुए देखा है |
लोग को यह दावा तो करते तो सभी देखते हैं कि इनका इलाज कहीं आयुर्वेदा में है या किसी प्राकृतिक चिकित्सक के पास है लेकिन आजतक इस बारे में कुछ ढंग का देखने को मिला नहीं है |
परंतु नही आप विश्वास करें तो नीचे बताया जा रहा एक ऐसा प्राकृतिक उपचार है जिससे इन सभी बीमारियों का इलाज संभव है |
आप माने या न माने पर यह सत्य है कि प्राकृतिक रूप से घर में ही बनने वाली ऐसी नायाब दवाई है जिसको प्रयोग करने पर केंसर सहित बहुत सी और भी बीमारियाँ दूर की जा सकती हैं|
ये दवाई कैंसर के तमाम प्रकार के फॉर्म्स को सही करने में सक्षम है |
प्राकृतिक चिकित्सकों के अनुसार ये औषधि लम्बी उम्र और स्वस्थ जीवन के लिए सहायक है |
ये छोटे मोटे रोगों के साथ साथ कैंसर के इलाज में भी बहुत लाभकारी है और साथ ही जवान दिखने और शारीरिक ताकत के लिए भी फायदेमंद है |
ये शरीर में मेटाबोलिज्म को बढाता है, गुर्दों और लीवर को साफ़ करता है, शरीर में बीमारियों से लड़ने की शक्ति पैदा करता है और दिल के दौरे से बचाती है |
आइये जानते है इस औषधि को तैयार करने की आवश्यक सामग्री के बारे में :

  1. 400 ग्राम ताजा अखरोट मीठे वाले
  2. 400 ग्राम अंकुरित अनाज शरबती गेंहू
  3. 1 किलो प्राकृतिक शहद छोटी मखियों का
  4. 12 ताजा लहसुन की पुष्ट कलियाँ
  5. 15 ताजा निम्बू कागजी

तेयार करने का तरीका :
गेंहू को एक कांच के बर्तन में रख दे उस में उतना पानी डालें जिस से अनाज अच्छी तरह भीग जाए |
इसे एक रात के लिए इसी तरह छोड़ दें अगली सुबह गेंहू को पानी में से निकाल दें पानी को फेक दें।
गैंग को अच्छी तरह पानी से धोने के बाद दोबारा बिना पानी के कांच के बर्तन में ढाल कर 24 घंटे तक रखें | इस से गेंहू अंकुरित हो जायेगा।
औषधि तैयार करने की विधि :
लहसुन की कलियाँ, अंकुरित गेंहू और अखरोट को एक साथ सिलबट्टे अथवा मिक्सी में पीस लें |
5 नीम्बू भी बिना छिलका फेंके उपरोक्त चीजों के साथ ही पीस ले |
अच्छी प्रकार से पेस्ट के रूप में पिसाई कर लेने के बाद इस पेस्ट में बाकी के बचे 10 नीम्बू का रस इसमें निचोड़ दें |
अब इन सब चीजों को अच्छे से मिला दें |
अब इस मिश्रण में लकड़ी की चम्मच से पूरा शहद अच्छी तरह मिलाएं |
अब इस मिश्रण को एक कांच के जार में भरके फ्रिज में रख दें |
सेवन करने का तरिका :
इसे सोने के आधा घंटे पहले लें और
हर बार खाना खाने के आधे घंटे पहले इस मिश्रण की दो दो चम्मच लें |
तथा रात में सोने के लिए जाने के आधे घंटे पूर्व इस मिश्रण की दो चम्मच लें।
अगर कैंसर जैसे रोग के इलाज हेतू ले रहे हैं तो हर 2 घंटे में इसे 2-2 चम्मच लेते रहें |
ये कैंसर के लिए तो फायदेमंद है ही उसके साथ ये आपको जवान और ताकतवर बनाने में भी मददगार है |
इसके प्रयोग काल मे समुद्री नमक, मिर्च, सभी प्रकार के उग्र गर्म मशाले, खटाई, गाय के घी को छोड़ कर सभी प्रकार की चिकनाहट, तली भुनी चीजें, मांसाहार एवं नशीले पदार्थो के प्रयोग को बन्द कर देना चाहिए।

Loading...

LEAVE A REPLY